Preview Mode Links will not work in preview mode

Sep 29, 2020

यह दरिया मेरा दोस्त है।

This River is My Friend

इस कविता में मेने समन्दर को दरिया की संज्ञा दी है

In this poem, I have given the ocean the status of a ‘river’

यह दरिया मेरा दोस्त है , मुझसे रोज़ रोज़ बात करता है।

This river is my friend, it talks to me every day

में जब कभी अंदर से दहलता हूँ तो यह मुझे शांत करता है।

If ever I feel restless from the inside, it calms me down

मे हर सुबह अपने तेज कदमों से।।

Every morning with my fast-paced steps

इसके एक साहिल को छूता हुआ,

Touching one corner of the river

दूसरे से पार निकल जाता हूँ।

I cross over to the other end

ना कभी इस से कुछ पूछता हु, ना कभी इसको जानने की कोशिश करता हूँ।

I never ask anything of it, nor do I try to know it

जब कभी थक जाता हूँ। तो इसके किसी किनारे पे बेठ कर

But when I am tired, I sit down at one corner (of the river).

इसको ही अपनी कुछ शिकायतें सुना देता हूँ।

and narrate to it my complaints

यह मेरा दिल हल्का कर देता है।

It lightens my heavy heart

आज यह दरिया बैचेन लगता है ।।

Today this river looks restless

कोई ज्वार है ज़ो उछाले मार रहा है,

There is a high tide that’s causing it to bounce

कोई लावा है इसकी गोदी में,

There appears to be (volcanic) lava in its lap

जिसे ग़ुस्से में निकाल रहा है।

Appears that the river is spouting it ( the lava) in anger

में बैठा हूँ इसके किनारे, इस आस में की शायद यह आज मुझसे बात करे।

Today I sit beside the river in the hope that it talks to me

आज यह मुझे समझा पाये अपने दिल का हाल।

Perhaps today it will tell me what’s in its heart

आज में इसकी हर बात सुनूँ ओर कहु

Today I will listen to everything it has to say to me, and say

मेरे दोस्त इस दुनिया में तू ओर में एक ही है।

“My friend you and I are alike in this world.”

फ़र्क़ इतना है की में समझा पाता हूँ।

The only difference is that I can explain myself

ओर तूँ सिर्फ़ खुद ही समझ लेता है।

And you understand everything by yourself

यह दरिया आज मुझसे बात करता है।

Today the river talks to me